नींद की गोलियां कितनी असरदार

Sleeping Pills
83

नींद की गोलियां कितनी असरदार:आजकल कि बिजी लाइफ और तनाव के कारण कई लोगों को नींद ना आने की समस्या से जूझना पड़ता है। इसलिए ऐसे लोग अक्सर नींद के लिए नींद की गोलियां लेते हैं।
लेकिन इन नींद की गोलियों के साइड इफेक्ट हो सकते हैं तो आइए जानते हैं कि  नींद की गोलियों का हमारे शरीर पर किस प्रकार से प्रभाव पड़ता है।

12 हफ्ते के बाद असर नहीं करती नींद की गोलियां

कुछ समय पहले किए गए एक शोध में पता चला है कि नींद की गोलियां आपके शरीर पर 12 हफ्ते के बाद असर करना बंद कर देती है। यह दावा किया है अमेरिका के वैज्ञानिकों ने।
अमेरिका के ब्रिघम एंड विमेन हॉस्पिटल में शोध किया गया जिसके दौरान 685 महिलाओं पर नींद की गोलियों के असर को आजमाया गया। इन महिलाओं की औसत आयु 50 वर्ष के करीब थी और सारी की सारी महिलाएं नींद ना आने की समस्या का सामना कर रही थी।

नींद की गोलियां
शोध के दौरान 238 महिलाओं को नींद की दवाई दी गई और 447  को दवाई के बिना रखा गया। 2 से 3 साल बाद जब रिजल्ट देखा गया तो पाया गया कि नींद की दवाई लेने वाली महिलाओं पर दवाई का कुछ ज्यादा असर नहीं हुआ है और वो अभी भी नींद ना आने की समस्या से जूझ रही हैं।
इस शोध में पाया गया कि नींद की दवाओं का असर केवल 2 से 12 हफ्तों तक ही महिलाओं पर रहा और इस समय अवधि के बाद नींद की दवाओं ने काम करना बंद कर दिया।
इस शोध में पाया गया कि जो महिलाएं नींद की दवाई ले रही थी उन्हें तीन में से दो रातों को अचानक नींद खुलने की समस्या का सामना करना पड़ा।
अतः स्पष्ट है कि यदि आप आने की समस्या का सामना कर रहे हैं तो नींद की दवाई इस समस्या का स्थाई इलाज नहीं है।

समस्या की जड़  तक जाएं

नींद ना आने की समस्या पर डॉक्टरों का कहना है कि यदि आप नींद ना आने की समस्या से जूझ रहे हैं तो आप कुछ समय के लिए नींद की  गोलियां ले सकते हैं। लेकिन इस समस्या के स्थाई उपचार के लिए आपको समस्या की जड़ को समझना होगा। अधिकतर  मामलों में पाया गया है कि नींद ना आने का कारण कई प्रकार की बीमारियां जैसे हाई ब्लड प्रेशर ,डायबिटीज, दर्द ,तनाव आदि हैं। तो यदि आप इन बीमारियों के इलाज पर ध्यान देंगे तो आपको अपने आप नींद आनी शुरू हो जाएगी।

Leave a Reply