पर्यावरण बचाएं भविष्य बचाएं

पर्यावरण बचाएं
90

हमारे पर्यावरण का हमारे जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। लेकिन वर्तमान में मानव क्रियाकलापों से पर्यावरण पर  बहुत बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

दुनिया के कई जगहों पर साफ पीने के पानी का अभाव है।

अधिकतर महानगरों की हवा  दूषित हो चुकी है जिसमें सांस लेने से कई बीमारियों का डर  रहता है।

यदि हमने जल्द ही अपने पर्यावरण को बचाने के लिए उचित उपाय नहीं किए तो जल्द ही  मानव सभ्यता का अंत हो जाएगा।
तो आइए जानते हैं वह कौन से उपाय हैं जिनकी मदद से हम अपने पर्यावरण को बचा सकते हैं।

पर्यावरण बचाएं

पर्यावरण बचाएं भविष्य बचाएं

पैदल चलने की आदत डालें

प्रतिदिन कम से कम 2 से 3 किलोमीटर पैदल चलने की आदत डालें।  इससे आपकी सेहत बहुत बढ़िया रहेगी और अगर आप पैदल चलेंगे तो गाड़ी के प्रयोग ना करने से वातावरण दूषित भी नहीं होगा। यदि आप पैदल नहीं चल सकते हैं तो कार या बाइक के बजाय साइकिल का प्रयोग करें।

पानी का दुरुपयोग ना करें

आज भी दुनिया के अधिकतर देशों में स्वच्छ जल की कमी है। और आने वाले समय में यह हालात और भी  बत्तर हो जाएंगे। इसलिए हमारा यह नैतिक कर्तव्य बनता है कि हम पानी को बचाएं।

अधिकतर घरों में वाटर फिल्टर बहुत सारा पानी व्यर्थ हो जाता है। इसलिए हमें RO या अन्य फिल्टर से जो पानी व्यर्थ हो रहा है उसका प्रयोग करना सीखना चाहिए।

इसके अलावा भी बहुत सारी प्रैक्टिकल तरीके हैं जिनकी मदद से हम पानी को बचा सकते हैं  जैसेनहाने के लिए फव्वारे की जगह बाल्टी भर के पानी का उपयोग करें।

अधिक वृक्ष लगाएं

मनुष्य और वृक्ष एक दूसरे के पूरक हैं। मनुष्य अपने आवश्यकताओं के लिए वृक्ष पर निर्भर करता है और वृक्ष मनुष्य पर। जब तक प्रकृति में मनुष्य और वृक्षों की संख्या का अनुपात बना रहेगा तब तक प्रकृति में संतुलन रहेगा।

इसलिए  प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में चार से पांच वृक्ष जरूर लगाने चाहिए और उनकी देखभाल करनी चाहिए। क्योंकि जितने अधिक वृक्षों की संख्या होगी उतना ही हमें स्वच्छ हवा मिलेगी और हमारा वातावरण स्वच्छ रहेगा।

लोगों में जागरूकता लाने के लिए प्रति वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है जिसमें  बहुत सारी  संस्थाएं वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित करती हैं।

पर्यावरण व प्रकृति बचाएं

बिजली व्यर्थ ना करें

बहुत सारे लोगों की यह आदत होती है कि वह कमरे में सारे फैन ,लाइट आदि on  करके रहते हैं। जिसकी वजह से बहुत सारी इलेक्ट्रिसिटी  व्यर्थ हो जाती है। इसलिए बिजली के उपकरणों को तभी ऑन करें जब उनकी आवश्यकता हो। आपका बिजली का बिल तो कम आएगा ही साथ ही साथ पर्यावरण को भी इससे फायदा होगा।

भोजन व्यर्थ ना करें

हमेशा उतना ही भोजन बनाना चाहिए जितने आपको  आवश्यकता हो। आवश्यकता से अधिक भोजन बनाने से आपके रिसोर्सेज तो कम होंगे ही होंगे साथ ही साथ भोजन की  बर्बादी भी होगी। हम सब का यह नैतिक कर्तव्य है कि जितने भी संसाधन हमें पर्यावरण से मिलते हैं उनका बहुत जिम्मेदारी से प्रयोग करें। क्योंकि प्रकृति ने जितने भी संसाधन हमें दिए हैं वह एक मनुष्य विशेष के लिए नहीं बल्कि पूरे समाज के लिए है।

अपने आसपास सफाई का ध्यान रखें

हमें अपने घर में डस्टबिन का प्रयोग करना चाहिए। ताकि हम कचरे को इधर-उधर ना फेंक सकें और हमारा आसपास का प्रवेश साफ सुथरा रहे। प्लास्टिक और रबड़ की चीजें  आसानी से गलती  इसलिए जितना संभव हो इनका Reuse करने की कोशिश करनी चाहिए। अपने घर के साथ-साथ अपने आसपास  के वातावरण को भी साफ रखें।

AC और फ्रिज का कम उपयोग करें

AC और फ्रिज में जो गैस उपयोग की जाती है  उस का वातावरण प्रदूषित प्रभाव पड़ता है। ज्यादातर एसी और फ्रिज में फ्रीऑन नामक गैस यूज़ की जाती है जो ओजोन परत को नुकसान पहुंचाती है जिससे  मनुष्य में त्वचा के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

तो ये थे कुछ आसान तरीके जिनका प्रयोग करके हम अपने पर्यावरण को सुरक्षित रख सकते हैं।

Leave a Reply